वो कहते है!

19
1302

वो कहते है मुकददर काम नहीं आता,
झुककर हर किसी को सलाम किया नहीं जाता,
रोना किस्मत की लकीरो में नहीं लिखा,
चलता नहीं हर ज़गह किस्मत का सिक्का।

कुछ मेहनत की दुआएँ भी छिन लाती है,
जो सूकून दे जाती है,
दर-दर की ठोकरें खाने का शौख नहीं है,
दिल की दोर में भी हिम्मत कहीं है।

कौन कहता है निगाहें उठाकर चलना ग्वारा नहीं,
रूह की सुनो तो खुदा भी है यही,
कब तक दिवारें रोक कर रखेंगी होसला हमारा,
क्या जंजिरों में रोक पाओगे सपनों का यह पीटारा।

19 COMMENTS

  1. I am really inspired with your writing abilities as smartly as with the structure to your weblog. Is this a paid topic or did you customize it yourself? Anyway keep up the nice high quality writing, it is rare to look a nice blog like this one nowadays..

  2. I don’t even know the way I finished up here, however I thought this publish used to be great. I do not recognize who you might be however certainly you are going to a famous blogger for those who are not already. Cheers!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here