हमने खुदको पूरा करना सीखा!

0
288

जिसको प्यार करके हमने खुदको पूरा करना सीखा,
जिसकी निगाहों को देखकर हमने जीना सीखा,
आज उसी की मुस्कुराहत हमें जिंदा कर देती है,
जब वो पलभर के लिए मुझे निगाहें भरकर देख लेती है।

उसके प्यार ने मेरे अकेलेपन को तोड़ा है,
हर रास्ता उसने मेरा अपनी तरफ़ मोड़ा है,
संजोए रखा है उसने मुझे और मेरे प्यार को,
हिम्मत है वो मेरी जैसे भी रहे मेरे हालात हो।

गरूर बन गयी है वो मेरा जबसे ज़िदगी में आयी है,
मेरी खुशियों को अपने साथ जिंदा कर लायी है,
उससे बढ़कर मेरी जिंदगी में अब और कुछ नहीं रहा,
वो ही बन गयी है मेरे जीने की हर एक व़जहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here