जिंदगी से हार

0
433

जब हम जिंदगी से हार जाते हैं,
तब हम अपनी सारी उम्मीदें तोड़ जाते हैं,
हर जगह अंधेरा दिखाई देता है,
कुछ नहीं बचा हमें यह मान कर बैठ जाते हैं।

वह सुबक-सुबक कर रोना मनज़ूर हो जाता है,
जब हौसले का बांध टूट जाता है,
जब सब चीज़े खलने लगती है,
तभी सिर्फ निराशाएँ दिखने लगती हैं।

Image result for boy sad

आँखो के आंसू मंजिल के रास्तों को धुंधला कर देते हैं,
हम भी नाकामयाबी को अपनी जिंदगी समझ लेते हैं,
अंधेरे से प्यार होने लगता है,
इसे हम अपना मुकद्दर कहते हैं।

दिल में क्या-क्या छुपा रखा है,
वह दर्द ही है जिसने सीने में आग को जला रखा है,
सर को हमेशा उठाकर चलना,
इस दामन को बचा कर चलना,
रास्ते बहुत खराब है जिंदगी के,
तू किसी की ना सुनना बस अपनी धुन में चलना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here